दानह मामलतदार दत्ता की पत्नी के नाम पर लाखों का फ्लेट गिफ्ट, परिवार के नाम करोड़ों की संपत्ति, सीबीआई जांच की मांग।

Silvassa
Silvassa

भ्रष्टाचार की कई खबरों के बाद भी प्रशासन का जांच से परहेज, किन-किन अधिकारियों को भ्रष्टाचार में बनाया दत्ता ने भागीदार, दानह सतर्कता विभाग भी इस अधिकारी की मुठ्ठि में, या मामले भागीदारी का है?

दानह में मामलतदार तथा मामलदार के परिवार के नाम कुल कितनी संपत्ति, उक्त मामले में रजिस्ट्रार तथा जमीन विभाग से प्रशासक को जांच करवाने जरूरत।

संध प्रदेश दानह में जहां जमीन मामलों को लेकर कई बार भ्रष्टाचार तथा अनियमितताओं कि बात सामने आई, वहीं जमीन एन-ए करने हेतु मामलतदार कार्यालय में एजेंटों तथा दलालों के जरिये घुस लेने की खबरे भी सामने आई।

वहीं मामलतदार दत्ता के भ्रष्टाचार को लेकर एक नया मामले में सामने आया है, बताया मामलदार दत्ता ने कुछ समय पहले दानह में अपनी पत्तनी के नाम एक फ्लेट रजिस्टर करवाया है, तथा बताया जाता है उक्त फ्लेट मामलतदार की पत्नी को गिफ्ट के तौर पर दिया गया है तथा उक्त फ्लेट की बाजार कीमत लगभग 80 लाख बताई जाती है। साथ ही यह भी बताया जाता है कि उक्त फ्लेट मामलदार ने केवल दिखावे हेतु अपनी पत्नी के नाम पर गिफ्ट करवाया है, असल में उक्त मामले में माजरा कुछ और ही है।

ये भी पढ़ें-  प्रशासक प्रफुल पटेल की पहल पर शिक्षित बेरोजगारों के लिए लगा रोजगार मेला

दानह मामलतदार दत्ता भ्रष्टाचार में अव्वल, प्रशासक जारी करे जांच के आदेश, मामलतदार ने अपने पद का दुरुपयोग कर, अपने परिवार के नाम पर जमा की करोड़ों की संपत्ति, कुछ समय पहले एक फ्लेट मामलतदार दत्ता ने करवाया अपनी पत्तनी के नाम, इन्हे सीबीआई का भी भय नहीं, या यहाँ जांच एजेंसियाँ भी नतमस्तक है?

ये भी पढ़ें-  वन-पर्यावरण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से सांसद लालू पटेल ने की मुलाकात

हालांकि दानह मामलदार की अनियमितता तथा भ्रष्टाचार को लेकर क्रांति भास्कर कई खुलासे तथा खबरे प्रकाशित कर चुकी है, प्रशासन को उक्त तमाम खबरों तथा खुलासों के तथा मामलदार दत्ता पर जांच कमिटी बैठाने की जरूरत है, साथ ही साथ दानह रजिस्ट्रार में इस बात की जाच करवाने की जरूरत है कि मामलतार ने अपने तथा अपने पारवार जनों के नाम पर कितनी संपत्ति रजिस्टर कारवाई तथा उक्त जांच पूर्व उक्त अधिकारी को निलंबित करने की जरूरत है।

वेट विभाग के अतिरिक्त पदभार से कमाया करोड़ों, उधोगों से टैक्स चोरी करवाकर भर रहे है अपनी तिजोरी, किन किन को मिलता है हिस्सा खुलासा आने वाले अंक में।