डाक्टर दास का भाजपा सांसद नट्टू पटेल पर गंभीर आरोप! पढिए क्या है पूरा मामला।

भ्रष्टाचार, भाईगीरी, हफ्ता-वसूली और माफियागिरी पर अंकुश लगाने में प्रशासक प्रफुल पटेल भी फैल! | Kranti Bhaskar image 1
VK-DAS-Hindi-news-in-silvassa

भाजपा सांसद पर स्वास्थ्य निदेशक के गंभीर आरोप!
पिछली बार अपने लिए तो इस बार चेले-चपाटों के लिए: डाक्टर दास।
दानह के अधिकारियों की बाते सुनकर लगता है कि उनकी नज़र जितनी सरकारी कुर्सी से मिलने वाली काली कमाई पर रहती है उतनी ही दानह के नेताओं और सांसद पर भी रहती है। वैसे भी अगर दानह प्रशासन के कुछ गिने-चुने अधिकारियों को छोड़ दिया जाए तो बाकी बचे कई अधिकारियों में से कुछ अधिकारी ऐसे है जिनके बारे में बताया जाता है कि या तो यह डेलकर के पक्ष में है या नट्टू के ! लेकिन अगर नियम और अधिनियमों की बात करें तो किसी सरकारी कर्मचारी को अपने पद और कुर्सी पर रहते हुए राजनीति व राजनेताओं पर इस प्रकार की टिप्पणी का हक नहीं, बल्कि राजनीति पर टिप्पणी और राजनीति में हस्तक्षेप करने पर उन अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाई करने के प्रावधान भी बने है, लेकिन प्रशासक इस मामले में क्या कार्यवाई इस अधिकारी पर करते है यह तो देखने वाली बात है।
दानह के अफसरशाहों तथा सांसद नट्टू पटेल के बारे जनता क्या कहती है और सोचती है वह तो नट्टुभाई भी जानते है और जनता भी, लेकिन भाजपा सांसद नट्टू पटेल की राजनीतिक चाल और चालाकी के साथ साथ दामन स्वास्थ्य विभाग के निदेशक, डाक्टर वी-के दास दानह के उन भाजपा कार्यकर्ताओं के बारे में भी पूरी जानकारी रखते है जो सालों से भाजपा की सेवा करते आए है, यह तो अब पता चला है। अब जानिए स्वास्थ्य विभाग के निदेशक, दवा एवं ओषधि विभाग के अधिकारी तथा खाद्य विभाग के अधिकारी डाक्टर वी-के दास ने दानह भाजपा सांसद नट्टू पटेल तथा भाजपा कार्यकर्ताओं पर कैसे कैसे आरोप लगाए है और भाजपा की सोच और विचारधारा को कैसे कटगहरे में खड़ा कर दिया है।
मामला लोक सभा चुनाव से जुड़ा है और दानह प्रशासन के कई विभागों में अपनी कुर्सी रखने वाले डाक्टर दास ने दानह भाजपा कि राजनीति और रणनीति के साथ साथ भाजपा सांसद नट्टू पटेल पर आरोप लगाया है कि लोक सभा 2009 में भाजपा सांसद नट्टू पटेल कि जीत का मुख्य कारण था कि दानहा कि जनता डेलकर को नहीं चाहती थी और नट्टू पटेल नेगेटिव वोटों से जीत गए, लेकिन जीतने के बाद सांसद नट्टू पटेल एवं उनके भाई ने खूब माल कमाया, सीधे-सीधे भाषा में डाक्टर दास का कहना है उन्होने तो कमाया लेकिन किसी और को कमाने नहीं दिया जिसके चलते भाजपा के कई कार्यकर्ता नाराज़ भी हुए और त्यागपत्र भी दिए गए।
लेकिन 2014 लोक सभा चुनाव आते आते नट्टू पटेल ने अपनी रणनीति बदल दी और इस बार भाजपा सांसद नट्टू पटेल कि रणनीति यह थी कि उनका पेट अब भर चुका है और वह सिर्फ जीत हांसील कर दिल्ली जाना चाहते है, बस उनके कार्यकर्ता कैसे भी उनको जीता दे फिर जीतने के बाद वह अपने कार्यकर्ताओं के लिए उधोगो से वसूली के द्वार खोल देंगे, और सांसद नट्टू पटेल खुद दानह के उधोगों से अपने चेले-चपाटों के लिए उधोगों से धन-उगाही की बंदी करवा देंगे, फिर उनके चेले चपाटे कितना कमाते है कितना बड़ा बंगला बनाते है या कितनी बड़ी गाड़ी लाते है उन्हे उस से कुछ लेना देना नहीं बस उन्हे तो सिर्फ सांसद बन दिल्ली जाना है।
हालांकि दानह स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी डाक्टर दास को, सांसद नट्टू पटेल एवं भाजपा कार्यकर्ताओं कि राजनीति व रणनीति के बारे में इस प्रकार कि जानकारी कहां से मिली यह तो वहीं जाने लेकिन इस मामले में डास्वास्थ्य विभाग के अधिकारी डाक्टर दास कहीं बात में कितनी सत्यता है इस बात पर तो भाजपा को ही आगे आकार जवाब देना चाहिए।
हालांकि इस मामले में क्रांति भास्कर द्वारा भाजपा सांसद नट्टू पटेल से फोन पर संपर्क कर इस मामले में उनकी प्रतिक्रिया जाननी चाही लेकिन भाजपा सांसद नट्टू पटेल से संपर्क नहीं हो पाया। जब इस मामले में भाजपा सांसद नट्टू पटेल कि प्रतिक्रीया क्रांति भास्कर को मिलेगी तो क्रांति भास्कर उसे भी जनता के सामने रखेगी। शेष फिर।

ये भी पढ़ें-  वर्षों बाद जागी सरकार, फतेसिंह चौहान पर FIR, अब फतेसिंह भी फ़रार।

नोडल ऑफिसर हेल्थ। इनका कहना है की इन्हे जो पद मिला है वह प्रशासन ने इनके लिए नया ईजाद किया, अब प्रशासन ने ऐसा क्यों किया यह तो सिर्फ प्रशासक बता सकते है।
जब इनसे पूछा गया कि दानह लोकसभा चुनाव में वोटरों को खरीदने के लिए कोनसी पार्टी वोटर को कितना पैसा दे रही है तो इनहोने बे-हिचक बता दिया कि एक वोटर और वोट का एक हजार रुपया चल रहा है, जब पूछा कि कांग्रेस पार्टी कितना पैसा बांट रही है और कितने में वोट खरीद रही है तो इनहोने कहां कि भाजपा जितना दे रही है उस से कम कांग्रेस दे रही है क्यों कि कांग्रेस को दनह के उधोगों से उतना सहयोग नहीं मिला जितना कि भाजपा को मिला।

ये भी पढ़ें-  दमण-दीव, दादरा नगर हवेली को जोड़कर एक केंद्र शासित प्रदेश बनाया जाएगा: मोदी सरकार

इनका कहना है कि नट्टू पटेल ने चुनाव जीतने के लिए भाजपा के कार्यकर्ताओं को कमाने और अपना घर भरने का मौका देने कि रणनीति बनाई, डाक्टर दास ने यह खुलकर बताया कि चुनाव जीतने के बाद नट्टू पटेल अपने कार्यकर्ताओं को दानह के उधोगों से हफ्ता मिलता रहे और दानह भाजपा के कार्यकर्ता अपना घर भरते रहे ऐसे ऐसा वादा किया, क्यों कि पूर्व में नट्टू पटेल व उनके भाई ने किसी और को वसूली करने दी नहीं और अपना घर भरते रहे जिससे नाराज कार्यकर्ताओं को पुनः विश्वास में लेने के लिए इस तरह कि रणनीति इजात कि गई। गया और दानह के उधोगों में उनके लिए हफ्ता बाधने तथा हफ्ता वसूली करवाने में मददकर अपने कार्यकर्ताओं को मालामाल करना है।

ये भी पढ़ें-  DNH-DD प्रदेश अध्यक्ष की अध्यक्षता मे प्रदेश के "युवा मोर्चा अध्यक्ष" के नाम की घोषणा।

हालांकि इस मामले में सांसद नट्टू पटेल से इस मामले में उनका पक्ष जानने की कोशिश की गई लेकिन सांसद महोदय से संपर्क नहीं हो पाया, जल्द इस मामले में सांसद नट्टू पटेल की प्रतिक्रिया तथा उनके पक्ष को भी जनता के सामने रखने का प्रयत्न करेगी भूचाल-कॉम। शेष फिर