पांच हजार से बीस हजार प्रति-गुंठा!

Silvassa
Silvassa

This Content Is Only For Subscribers

Please subscribe to unlock this content.

यह कीमत जमीन की नहीं, जमीन एन-ए करने की बताई जाती है।
मामलतदार दत्ता कितने मालदार इसका आंकलन तो सतर्कता विभाग को करना चाहिए, लेकिन दानह में जमीन एन-ए को लेकर उठ रहे सवाल, दानह प्रशासन तथा जमीन मामले से जुड़े कई अधिकारियों पर सवाल खड़े करती है।

बताया जाता है कि, दानह में जमीन एन-ए करने हेतु, जमीन के क्षेत्र तथा उसके बाजार भाव के अनुसार अधिकारी, एन-ए करने की रिश्वत लेते है, जिनमे कई अधिकारियों के मिली भगत की बाते सामने आई है। हालांकि दानह में जमीन एन-ए के मामले में पहले भी कई सवाल उठते रहे है, लेकिन जांच विभाग की चुप्पी और प्रशासन की खामोशी ने भ्रष्टाचारियों को एक और मौका दे दिया।
फिलवक्त मिली जानकारी तथा सूत्रों के अनुसार, पाँच हजार से बीस हजार रुपए की राशि, प्रति-गुंठा जमीन एन-ए करने हेतु वसूलने की बाते सामने आई है, बताया जाता है, यह रिश्वत का कारोबार मामलतदार कार्यालय में ही धड्ड्ले से किए जाने की बाते उठ रही है, नहीं यहां जांच का भय है, नहीं नियम कानून का।
हालांकि इस लेन-देन में जयादतर काम दलालों के माध्यम से किया जाता है, और लेन-देन करने वाली दोनों पार्टियों की सहमति होने के कारण किसी प्रकार की शिकायत नहीं की जाती, जनता द्वारा शिकायत नहीं करने का एक कारण यह भी बताया जाता है कि, जनता के मन में यह शंका है कि, यदि किसी प्रकार की शिकायत की गई तो कहीं जमीन एन-ए को लेकर अधिकारी फाइल में कोई कमी निकाल जमीन एन-ए पर रोक लगा दे।
इस मामले में जमीन एन-ए तथा मामलतदार कार्यालय में अवैध ढंग से जमीन एन-ए करने वाले दलालों, तथा मामलतदार कार्यालय के कर्मचारियों और अधिकारियों की जांच की आवश्यकता है, समाहर्ता श्री मीणा को चाहिए कि उक्त मामले में जांच के आदेश देकर सत्यता को जनता के सामने लाए।

ये भी पढ़ें-  DIA से दूरी बना रहा है दमन प्रशासन!