भारत सरकार के सरकारी डकैत…

Kranti Bhaskar - Daman News, Silvassa News, Vapi News and Valsad News | गृह राज्य मंत्री हरिभाई को मिलता है संध प्रदेशों में हुए भ्रष्टाचार का हिस्सा....! image 1
Gyanesh-Bharti-IAS

Daman : भारत सरकार दमन के विकास के लिए भ-लेही कितने भी आई ए एस अधिकारियों को भेजे चाहे भारत सरकार नीति या नियत कुछ भी रही हो लेकिन यहां आने वाले और यहां काम करने वाले अधिकारी इतनी खुली डकैती करते है जितनी तो अग्रेजी हुकूमत में भी नहीं हुई होगी।
एक एक अधिकारी करोड़ों के घोटाले करता है और बड़े बड़े अधिकारी और नेताओ को उन घोटालों से कमाई रकम का हिस्सा देकर बचाता रहता है, उन भ्रष्टाचारियों और घोटालेबाजों की जानकारी जनता को भी है नेताओं को भी और सरकार को भी, लेकिन जनता कानाफुंसी करके बैठ जाती है और नेता और अधिकारी अपना हिस्सा लेकर।
दमन-दीव विधुत विभाग, लोक निर्माण विभाग, वेट विभाग, पर्यावरण समिति यह सब अधिकारियों के घोटालों का कार्यालय बन चुका है जिसकी शिकायत प्रधान मंत्री को करो या गृह मंत्री को या उनके स्टिंग कर के सरकार को दिखाओ फिर भी सरकार उस पर जांच तक नहीं कर रही।

करोड़ों खा गए विकास करते करते, खुल गई कंपनियाँ सरकारी बाबुओं, जनता तो अब भी मजदूरी की तलाश में बस नेताओं के तमाशे देखती रहती है!

भाजपा का दमन में यह शासन देखकर लगता है की यहां तो फिर से फिरंगियों का राज आ गया हो, क्यों दमन के कई घोटालों में भाजपा के नेता भी हिस्सा लेते रहे है और जांच की बात कर के अपना हिस्सा लेने के बाद मामले को दबाते रहे है।
दमन की जनता को शायद यह नहीं पता की उनके अपने नेता किस तरह अंदर ही अंदर दमन की जनता व आने वाली पीढ़ी के जीवन को एक ऐसे अंधेरे में धकेल रहे है जिसकी परिकल्पना भी नहीं की जा सकती, लेकिन जनता के पास इन सब मामलों के लिए समय होता हो वह सरकार ही क्यों चुनती सरकार चुनी ही इसी लिए जाती है की वह जनता के हितों की रक्षा करे, लेकिन दमन में तो ऐसा नहीं है यहां तो अधिकारी और नेताओं का चोली दामन का साथ है, दोनों मिलबांट कर खा रहे है और किसी को कोई फर्क नहीं पड़ रहा बस देश के उन गरीबों के धन का दुरुपयोग हो रहा है जिनहोने ईमानदारी से भारत सरकार को टैक्स देकर इस देश के भविष्य को उजवल रखने की परिकल्पना की!

ये भी पढ़ें-  सरेआम जनता को बेइज्जत करते रहे हैं DNH-DD के नौकरशाह।

इसी मामले से जुड़ी सम्पूर्ण व विस्तार खबरे पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कीजिए!

इसी मामले में अन्य खबरे भी पढे और जाने पूरी हकीकत!

  1. I.A.S अधिकारियों कि आमदनी उनके एक कार्यकाल में लगभग 100 करोड़ के बाहर….
  2. संध प्रदेशों के साथ साथ गृह मंत्रालय के भ्रष्टाचार पर एक खोजी रिपोर्ट…
ये भी पढ़ें-  दानह सतर्कता विभाग की सतर्कता, मरणासन पर।

इस पूरी खोज-बिन से यह सामने आया है कि, संध प्रदेश के भ्रष्ट अधिकारी अपने अपने विभाग में भ्रष्टाचार जारी रखने व अपने आप को जांच से बचाने के लिए, गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिवों तक को अपने भ्रष्टाचार का हिस्सा देकर, अपने आप को भी जांच से बचा लेते है, और बे-फिक्री से भ्रष्टाचार भी करते रहते है…