दमण-दीव तथा दानह प्रशासन कि कई वेबसाइटों का सर्वर हुआ ख़राब।

दमन-दीव व दानह की जनता को विकास से अधिक नोकरी की आवश्यकता! | Kranti Bhaskar image 1
Daman Job Silvassa Job

डिजिटल इंडिया भारत सरकार की एक पहल है जिसके तहत सरकारी विभागों को देश की जनता से जोड़ना है। इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि बिना कागज के इस्तेमाल के सरकारी सेवाएं इलेक्ट्रॉनिक रूप से जनता तक पहुंच सकें। डिजिटल इंडिया के तीन कोर घटक हैं। जिसमे पहला (1) डिजिटल आधारभूत ढाँचे का निर्माण करना, (2) इलेक्ट्रॉनिक रूप से सेवाओं को जनता तक पहुंचाना (3) डिजिटल साक्षरता। संध प्रदेश दमण-दीव तथा दादरा नगर हवेली, इन दोनों संध प्रदेशों की सरकारी वेबसाइटों को देखकर लगता है कि उक्त दोनों प्रदेश डिजिटल इंडिया के तहत कोई काम नहीं कर रहे है। दोनों प्रदेशों कि कई वेबसाइटों पर जानकारियों का अभाव है तो कई वेबसाइटों के सर्वर डाउन है। ऐसा नहीं है कि यह पहली बार हुआ है दोनों प्रदेशों कि वेबसाइटों पर सूचना ओर जानकारियों के अभाव की शिकायते पहले भी होती रही है।

दमण-दीव के सचिवालय में एन-आई-सी विभाग के अधिकारी मेहता जी का कहना है कि सरकारी विभाग उन्हे समय पर सूचना नहीं देते, जिसकी वजह से वह वेबसाइटो पर समय पर सूचना अपलोड नहीं कर पाते, उनका कहना है कि प्रत्येक विभाग से सूचना मांगना उनका काम नहीं है, उन्हे तो जो सूचना मिलेगी वह अपलोड कर देंगे। वैसे उनका काम क्या है ओर उनका कर्तव्य क्या है यह हम नहीं जानते, लेकिन वेबसाइटों पर सूचना के अभाव से यह तो पता चल ही रहा है की किसी ना किसी कि गलती तो अवश्य है, अब किसकी गलती ओर ढुल-मुल नीति से बेवसाइटों पर सूचना का अकाल पड़ा है यह तो विभाग के मुख्या को देखने की जरूरत है ओर सभी वेबसाइटों पर नियमानुसार जानकारियाँ उपलब्ध कराने कि जरूरत है ताकि जनता को सूचना के लिए बार बार सरकारी विभागो के चक्कर ना लगाने पड़े।

ये भी पढ़ें-  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष केतन पटेल ने दीव में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की

Puja Jain IAS Daman and Diu Puja Jain (IAS) Daman and Diu

ग्रामीण भूमि रिकॉर्ड की वेबसाइट कई दिनों से बंद है, कहा जा रहा है की सर्वर डाउन है। https://daman.nic.in/ कि वेबसाइट पर जाकर जब ग्रामीण भूमि रिकॉर्ड पर क्लिक किया जाता है तो http://dd.nlrmp.in/lrc/ वेबसाइट खुलती है, अब यह वेबसाइट किसकी है ओर सरकारी वेबसाइट पर यह लिंक कैसे आया किसी को पता नहीं। वही https://daman.nic.in/ पर दादरा नगर हवेली प्रशासन की वेबसाइट का लिंक उपलब्ध है जब उस पर क्लिक करते है तो https://www.dnh.gov.in/portal यह वेबसाइट खुलती है ओर लिखा मिलता है कि यह वेबसाइट सुरक्षित नहीं है। दादरा नगर हवेली सतर्कता विभाग कि वेबसाइट पर क्लिक करने के बाद http://dnh.nic.in/Departments/page.aspx पेज़ खुलता है जिस पर लिखा है Response is awaited from the Department अब यह मज़ाक नहीं है तो क्या है? क्या एन-आई-सी विभाग के अधिकारी इसी बात की तंख्वाह पाते है, जब सतर्कता विभाग की वेबसाइट का यह हाल है तो बाकी वेबसाइटों की बात क्या करें।

  • पिछले कई वर्षों से NIC में फ़ेविकोल की तरह चिपके है NIC अधिकारी मेहता, चाहे कितनी भी गलतियाँ की हो लेकिन आज तक इस विभाग से इन्हे कोई हिला नहीं पाया।
  • पुजा जैन को IAS बने जीतने महीने नहीं हुए, उससे अधिक साल हो गए मेहता जी को NIC में चिपके हुए।
  • विभागों के नाम के साथ साथ विभागीय अधिकारियों का नाम, ई-मेल ओर मोबाइल नम्बर भी वेबसाइट पर होने चाहिए उपलब्ध। 
ये भी पढ़ें-  दादरा नगर हवेली 66 वा मुक्ति दिवस समारोह सम्पन्न।

दमण-दीव तथा दादरा नगर हवेली उक्त दोनों संध प्रदेशों के इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी के सचिव का प्रभार आई-ए-एस अधिकारी पुजा जैन के पास है, पुजा जैन 2011 बेच की आई-ए-एस अधिकारी है ओर इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी के सचिव पद के अलावे पर्यटन, टाउन प्लानिंग, पुरातव, विज्ञान एवं तकनीक, के साथ साथ उनके पास अन्य कई विभागों का भी प्रभार है। अब सवाल यह उठता है कि क्या अन्य विभागो का हाल भी वैसा ही होगा जैसा इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी का है, या फिर पुजा जैन भी, मेहता जी कि तरह बहाना बनाकर अपना पल्ला इस समस्या झाड़ लेगी? अगर सचिव पुजा जैन इस मामले में समस्या का हल निकालना चाहती है तो सबसे पहले उन्हे कुछ समय निकालकर दमण-दीव ओर दादरा नगर हवेली की सभी वेबसाइटों के सभी पेज़ पर विजिट करनी होगी तभी उन्हे पता चल पाएगा कि दमण-दीव ओर दादरा नगर हवेली डिजिटल इंडिया से कितने दूर है।

ये भी पढ़ें-  दानह के आदिवासी नेता तो निकले करोड़ो के मालिक।

दानह के इन विभागो की वेबसाइटों पर कोई जानकारी नहीं। क्या इन विभागो में कोई काम-काज नहीं हो रहा है? 

http://dnh.nic.in/Departments/Agriculture.aspx

http://dnh.nic.in/Departments/Animal_Husbandry.aspx

http://oidc.nic.in/

http://powerdnh.nic.in/

http://dnh.nic.in/Departments/PWD_Building.aspx

http://dnh.nic.in/Departments/page.aspx

http://dnh.nic.in/Departments/page.aspx

दमण-दीव की इन वेबसाइटो का भी यही हाल है, एक बार क्लिक करते ही हक़ीक़त पता चल जाएगी, किसी जांच की कोई आवश्यकता नहीं, खाली वेबसाइटे विभाग की पोल खोलने के लिए काफी है। 

http://balbhavandaman.org/

http://itidaman.in/

http://oidc.nic.in/

दमण-दीव तथा दादरा नगर हवेली के सरकारी विभागों द्वारा अब तक वेबसाइटों पर कितने करोड़ ख़र्च किए गए अब इसकी जानकारी किसी आरटीआई एक्टिविस्ट को दमण-दीव तथा दादरा नगर हवेली के सभी विभागो से मांगनी चाहिए।

दमण-दीव तथा दादरा नगर हवेली के सरकारी विभागों कि वेबसाइट को समय पर उपडेट करने की ज़िम्मेदारी किस अधिकारी कि है इसकी जानकारी अब प्रशासन को सार्वजनिक करनी चाहिए।