लाख रूपये के बिल पर, पाँच हजार की कमिसन-खोरी जिला पंचायत में।

संध प्रदेश में भ्रष्टाचार की यह हद किसी भी प्रशासनिक अधिकारी को शर्मशार कर सकती है, करोड़ों के घोटालों के आरोपो में धीरे अधिकारी अब चिल्लर भी जाया नहीं करने को आतुर, संधीय क्षेत्र में विकास कार्यों के बिलों के भुगतान हेतु कमीशन-खोरी कर आम जनों के साथ साथ सरकार को चुना लगाने का काम किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें-  भ्रष्ट अधिकारियों को संरक्षण दे रहे है जिला पंचायत के अध्यक्ष केतन पटेल!

हालांकि इस मामले में उक्त भ्रष्टाचार के दम पर वसूली गई रकम का हिस्सा किस-किस को मिलता है, इस की खोज-बिन अभी जारी है, जल्द उक्त मामले में पूरा खुलासा कर उक्त भ्रष्टाचारी अधिकारियों के साथ उक्त अधिकारियों के भागीदार एवं संरक्षक को बे-नकाब करेगी, भूचाल की खोजी टिम।