भाजपा की टिकट में भी नटु पटेल के लिए बड़ा रोड़ा साबित हो सकते है प्रभु टोकिया।

Prabhu Tokia Silvassa
Prabhu Tokia Silvassa

दादरा नगर हवेली की राजनीति में किसी ने नहीं सोचा था की इतने कम समय में प्रभु टोकिया को इतनी लोकप्रियता मिलेगी। प्रभु टोकिया का जन संपर्क अभियान अब धीरे धीरे परिणाम दिखा रहा है। दादरा नगर हवेली के बड़े राजनेताओं की फेहरिस्त में अब प्रभु टोकिया का नाम भी शामिल किया जा रहा है। जनता भी प्रभु टोकिया की उम्मीदवारी पर चर्चा कर रही है। जहां एक तरफ सोशल मीडिया में प्रभु टोकिया के चर्चे है तो वही दूसरी तरफ़ जनता में चर्चा है की दादरा नगर हवेली लोक सभा सीट से कांग्रेस से प्रभु टोकिया उम्मीदवारी कर सकते है।

प्रभु टोकिया की कांग्रेस से उम्मीदवारी को लेकर चर्चे, नटु पटेल की जीत ही नहीं बल्कि भाजपा की टिकिट में भी रोड़ा बनती नज़र आ रही है। ऐसा इस लिए क्यो की यदि प्रभु टोकिया को कांग्रेस से टिकिट मिल गया और मोहन डेलकर ने कांग्रेस का दामन छोड़, भाजपा से टिकिट प्राप्त कर लिया, तो नटु पटेल का पुनः संसद पहुँचना एक सपना ही रह जाएगा।

ये भी पढ़ें-  दीव दौरे के दूसरे दिन प्रशासक प्रफुल पटेल ने, पर्यटक स्थलों का भ्रमण कर विकास कार्यो का लिया जायजा 

Prabhu Tokia

कही मोहन डेलकर का राजनीतिक अनुभव उन्हे धोका ना दे दे? कही ऐसा ना हो जाए की मोहन डेलकर से प्रभु टोकिया कांग्रेस की टिकिट छिन ले और भाजपा भी नटु पटेल को ही टिकिट दे दे? राजनीति में कब किसका पलड़ा भरी हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता, असल में होगा क्या समय आने पर ही पता चलेगा।

Prabhu Tokia Silvassa Congress

ऐसे चर्चे इस लिए भी है क्यो की मोहन डेलकर को राजनीति का मँझा हुआ खिलाड़ी माना जाता है और काफी लम्बे समय से मोहन डेलकर कांग्रेस से दूरी बनाए हुए है अभी कुछ समय पहले वलसाड जिले में राहुल गांधी की एक सभा थी उस सभा में भी जब मोहन डेलकर शामिल नहीं हुए तो जनता में यह चर्चा और तेज़ होने लग गई की मोहन डेलकर शायद कांग्रेस से चुनाव नहीं लगेंगे, वही प्रभु टोकिया की कांग्रेस से बढ़ती नज़दीकिया और राहुल गांधी तथा अन्य कांग्रेसी नेताओं से मुलाक़ात भी अब यही इशारा करती है की प्रभु टोकिया की कांग्रेस में एंट्री पक्की है। वैसे आधिकारिक तौर पर अभी तक कांग्रेस की और से प्रभु टोकिया का नाम दानह लोक सभा उम्मीदवार के लिए घोषित नहीं हुआ है, वही भाजपा ने भी अभी तक आधिकारिक तोर पर उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं किया है, फिलवक्त चौपालों पर चर्चाओं का बाजार गर्म है और इस गर्मी की वजह से दानह के कई नेता पसीना पसीना है। शेष फिर।