दमन विधुत विभाग के भ्रष्टाचार मामले में गृह मंत्रालय ने प्रशासक से मांगी तत्काल कार्यवाई की रिपोर्ट…

Silvassa Kundra
Silvassa Kundra

जब कोई कार्यवाई की ही नहीं तो, दमन की जनता तथा जन-प्रतिनिधियों द्वारा की गई तमाम शिकायतों पर की गई कार्यवाई की रिपोर्ट अब कैसे देंगे प्रशासक महोदय!  दमन के नेता केतन पटेल, वासू पटेल, विशाल टंडेल, सांसद लालू पटेल, अब तक क्यों देखते रहे इस विभाग के भ्रष्टाचार का तमाशा….?

संध प्रदेश दमन-दीव विधुत विभाग के भ्रष्टाचार व घोटालों की सेकड़ों शिकायतों गृह मंत्रालय को की गई, और उन शिकायतों को गृह मंत्रालय ने दमन-दीव प्रशासक के पास जांच व टिप्पणी के लिए भेजा, लेकिन प्रशासक द्वारा उन तमाम भ्रष्टाचार के मामलों में कोई कार्यवाई नहीं की गई, जिसके बाद गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री राकेश सिंह से जवाब माँगा गया और पूछा गया की गृह मंत्रालय के अधिकारियों को दमन-दीव विधुत विभाग के भ्रष्टाचार का कितना हिस्सा मिलता है?

इस सवाल के साथ साथ संयुक्त सचिव श्री राकेश सिंह को यह भी बताया गया कि, अब तक दमन-दीव विधुत विभाग के भ्रष्टाचार मामले में कई स्टिंग किए गए, और कई अधिकारियों ने इस बात को स्वीकारा है कि इस विभाग में भ्रष्टाचार हुआ है और हो रहा है।

ये भी पढ़ें-  नट्टू पटेल की टिकिट ख़तरे में, अंकिता की उम्मीदवारी तेज़, अमित शाह को भेजे हजारों पोस्टकार्ड।

संयुक्त सचिव श्री सिंह को बताया गया कि दमन सतर्कता विभाग के अधीक्षक, विधुत विभाग के अभियंता, तथा तत्कालीन वित्त सचिव इस भ्रष्टाचार की सत्यता पर मुहर लगा चुके है, लेकिन भ्रष्टाचार में बंदरबांट कर इस मामले को सालों से दबाया जा रहा है। इस मामले में पूरी खबर पढ़ने के लिए इस लिंक कर क्लिक कीजिए….

जब गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव के साथ साथ, मुख्य सतर्कता अधिकारी श्री चोहान से भी इसी मामले में लापरवाही व ढील देने को लेकर सवाल किए गए तो संयुक्त सचिव श्री राकेश सिंह ने बताया कि गृह मंत्रालय इस मामले की पूरी जांच करवाएगा, और प्रशासक से तत्काल इस मामले में पूरी रिपोर्ट मांगेगा, इसी के साथ साथ पिछले कई वर्षों से आम जनता तथा जनप्रतिनिधियों द्वारा इस मामले में जितनी भी शिकायते की गई है, उनकी रिपोर्ट भी तत्काल गृह मंत्रालय में जमा करने का आदेश संध प्रदेश प्रशासक आशीष कुन्द्रा को दिया गया है।

ये भी पढ़ें-  दमण पुलिस थाने में हाजिर होने के बजाए हुआ था रफूचक्कर, दमण पुलिस ने किया केतन को मुंबई में गिरफ्तार।

इस मामले में गृह मंत्रालय ने दिनांक 5 अगस्त 2015 को पत्र जारी कर प्रशासक आशीष कुंदरा से अब इस विभाग के भ्रष्टाचार व अनियमितताओं के मामलों में तत्काल एकसन-टेकन रिपोर्ट मांगी है। और इस पत्र में यह भी बताया गया कि और कई शिकायते लंबित है जिनपर प्रशासक की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को नहीं मिली, उन तमाम मामलों की तत्काल एकसन-टेकन रिपोर्ट मांग कर गृह मंत्रालय ने जांच के सिंह का मुह खोल दिया अब इस मामले में कानून का शिकार कोन कोन बनता है यह तो समय बताएगा।

इस मामले से जुड़ी और खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए।

जब गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव को बतया गया कि, तत्कालीन वित्त सचिव बताकर गए है कि दमन-दीव विधुत विभाग से तत्कालीन विधुत सचिव ज्ञानेश भारती करोड़ों की कमाई कर के गए है तो संयुक्त सचिव श्री राकेश सिंह के भी होश उड़ गए, लेकिन दमन-दीव के सांसद व अन्य नेताओं की आंखे अब तक नहीं खुली जो इस मामले में कोई आवाज नहीं उठाते…