भारतीय राजनीति के पुरोधा पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का यह देश सदा ऋणी रहेगाः फतेहसिंह चौहाण

fatehsinh chauhan
fatehsinh chauhan

सिलवासा। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में रक्षा मंत्री रहे जॉर्ज फर्नांडिस का 88 साल की उम्र में मंगलवार को निधन हो गया। जॉर्ज फर्नांडिस आपातकाल के खिलाफ आवाज उठाने वाले योद्धा और सिविल राइट्स एक्टिविस्ट के तौर पर चर्चित हुए थे। 1977 से 1980 के बीच मोरारजी देसाई के नेतृत्व वाली जनता पार्टी सरकार में भी केंन्द्रीय मंत्री रहे।

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस के मृत्यु का समाचार मिलते ही फतेहसिंह चौहाण शोकाकुल हो गये। उन्होंने कहा की भारतीय राजनीति के पुरोधा पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस के स्वर्गवास पर राष्ट्र ने एक महान व्यक्ति को खो दिया है। आपातकाल आंदोलन, पोखरण, कारगिल युद्ध में देश उनके राजनीतिक योगदान का हमेशा ऋणी रहेंगा। देश ने मॉ भारती के एक और कर्मठ, ईमानदार और यशस्वी सपूत को खो दिया।

ये भी पढ़ें-  दमन में लघु उद्योग भारती की विशेष बैठक, डीआईए अध्यक्ष सत्येन्द्र कुमार तथा अन्य अग्रणी रहे उपस्थित।

उन्होंने बीते दिनों को याद करते हुए बताया की जॉर्ज फर्नांडिस एक पूर्व ट्रेड यूनियन नेता, राजनेता, पत्रकार और भारत के पूर्व रक्षामंत्री रह चुके हैं। जॉर्ज फर्नांडिस ने व्यापारिक संघ के नेता, पत्रकार, राजनेता और एक मंत्री के तौर पर अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई। आजीवन उन्होंने मजदूरों के अधिकारों के लिए संघर्ष किया। वे जनता दल के प्रमुख नेता थे और बाद में समता पार्टी का भी गठन किया। अपने राजनैतिक जीवन में उन्होंने केंद्र में कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने संचार, उद्योग, रेलवे और रक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया।

उनके साथ काम करने का जो मुझे सौभाग्य मिला है वह आजीवन स्मरण रहेगा। वह तेज-तर्रार एवं अनुभवी नेता थे। 22 एवं 23 जून 2001 में वह दादरा नगर हवेली दौरे पर आए थे उस दौरान फतेहसिंह चौहाण दादरा नगर हवेली समता पार्टी के अध्यक्ष थे। समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस ने समुद्र तटीय सुरक्षा को लेकर सिलवासा के रॉस रिसोर्ट में एक सेमिनार किया था। जिसमें उन्होंने समुद्र तट की सुरक्षा संबंधित मसलों पर चर्चा की थी। उस दौरान उन्होंने कच्छ से कोच्चि समुद्र तट पर तट रक्षक पोस्ट बनाने पर विचार-विमर्श किया था।  तत्कालीन सरकार ने अगर उनके गंभीर मुद्दों पर अमल किया होता तो 26/11 जैसे आतंकी हमले नहीं हुए थे।

ये भी पढ़ें-  दीपेश टंडेल की अध्यक्षता में हुई बैठक का वीडियो वायरल, सांसद लालू पटेल तथा प्रशासनिक अधिकारियों पर गंभीर आरोप।

दो दिवसीय सफल दौरे के दौरान पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस एवं तत्कालीन समता पार्टी के अध्यक्ष फतेहसिंह चौहाण के बीच कई मुद्दो पर चर्चा-विमर्श एवं अहम निर्णय लिए गए जिसमें मजदूरों के शोषण पर लगाम लगाने हेतु स्थानीय इकाई को लेकर यूनियन की अनुमति, शिक्षा विभाग में स्थानीय शिक्षकों की उपेक्षा, दानह सहकारी खांड उद्धोग के मामले में न्याय संगत सुझाव के मुद्दे अहम रहे। पर-प्रांतीयों की सुविधा के लिए सौराष्ट्र मेल ट्रेन की वापी में स्टोपेज की घोषणा की गई थी।

ये भी पढ़ें-  दमण पुलिस थाने में हाजिर होने के बजाए हुआ था रफूचक्कर, दमण पुलिस ने किया केतन को मुंबई में गिरफ्तार।

उल्लेखनीय है कि भारतीय राजनीति में उनका योगदान अहम है। संसद सदस्यों द्वारा उन्हें हमेशा स्नेह और सम्मान मिलता रहा। उनके प्रमुख योगदान में राज्यसभा में किए गए उनके कार्य तथा भारत के समाजवादी आंदोलन में दी गईं सेवाएं हैं। जनता दल के संस्थापक सदस्य, लोकसभा के सदस्य, रेलवे व रक्षा मंत्री और एनडीए के संयोजक के तौर पर जॉर्ज फर्नांडिस भारतीय राजनीति में बहुत ही अहम शख्सियत रहे हैं।