कल न्यू दमन, न्यू इण्डिया की तस्वीर पेश करेगी प्रशासन। लेकिन न्यू दमन और न्यू इण्डिया में, अनियमिता, भ्रष्टाचार, भाईगीरी और माफियागिरी की नई तस्वीर क्या होगी?

वफादारी से बड़ा भय होता है यह इस मामले को देखकर पता चलता है! | Kranti Bhaskar
Praful patel daman

संध प्रदेश दमन-दीव व दानह प्रशासक प्रफुल पटेल के दिशा-निर्देशन में दमन प्रशासन अपनी पूरी टीम के साथ 3 नवंबर को नानी दमण के स्वामी विवेकानंद सभागार में, नये दमन की तस्वीर पेश करेगी।

संध प्रदेश दमन की जनता को न्यू दमन, न्यू इंडिया की प्रस्तुति के साथ इस सभागार में दमन प्रशासन द्वारा, जनता को यह भी बताया जाएगा कि, आने वाले दिनों में दमन की सड़के, गार्डन, बिच, ऐतिहासिक इमारत एवं पर्यटन स्थलों का किस तरह सौंदर्यीकरण एवं नवीनीकरण किया जाएगा, साथ ही साथ बारी-बारी से सभी के सौंदर्यीकरण एवं नवीनीकरण की झलकियां पेश की जाएगी।

जहां एक तरफ प्रशासक प्रफुल पटेल द्वारा उठाए गए इस कदम और पारदर्शिता की काफी सराहनाए हो रही है। वही दूसरी तरफ दमन की प्रबुद्ध जनता के मन में यह सवाल घर किए हुए है की न्यू दमन और न्यू इण्डिया में अनियमिता, भ्रष्टाचार, भाईगीरी और माफियाफिरी की तस्वीर क्या होगी तथा डाक्टर दास, मिलिंद इंगले, पंकज पटेल एवं बीपीन पवार जैसे अधिकारियों को आने वाले समय में तथा न्यू दमन एवं न्यू इण्डिया में और कितने अतिरिक्त प्रभार दिए जाएंगे?

ये भी पढ़ें-  डीआईजी ने दीव पुलिस स्टेशन एवं आउटपोस्ट का किया निरीक्षण

Most Corrupt Officials

इतना ही नहीं 3 नवंबर को नानी दमन के स्वामी विवेकानंद सभागार में, दमन की सड़के, गार्डन, बिच, ऐतिहासिक इमारत एवं पर्यटन स्थलों के विकास के बारे में जो जानकारी दमन की जनता को मिलने वाली है, उस विकास में यदि भ्रष्टाचार हुआ तो जनता द्वारा की गई शिकायतों पर किस तरह तथा किस कछुआ-चाल में कार्यवाही होगी इसकी जानकारी भी लगे हाथ प्रशासन द्वारा दमन की जनता को दे दी जाए तो हो सकता है प्रशासन का सच जानने के बाद जनता की शिकायतों ईएमआई कुछ कमी आ जाए, इसके अलावे अनियमितता एवं भ्रष्टाचार की शिकायत करके पर जनता को अपना कीमती समय और पैसा देश की भलाई के लिए खर्च करना चाहिए या नहीं? इस पर भी प्रशासन को कुछ झलकिया अवश्य पेश करनी चाहिए, उन झलकियों में प्रशासन को यह बताना चाहिए की कैसे विकास में हुए भ्रष्टाचार की शिकायतों को एक टेबल से दूसरी टेबल तक पहुँचने में महीनों सालो लग जाने के बाद भी मामला जस के तस रहता है।

ये भी पढ़ें-  I.A.S अधिकारियों कि आमदनी उनके एक कार्यकाल में लगभग 100 करोड़ के बाहर....

फिलवक्त तो सभी को 3 नवंबर का इंतजार है क्यो की वास्तव में प्रशासन 3 नवंबर को किन किन मुद्दों एवं विकासीय कार्यों पर रोशनी डालेगी यह तो 3 नवंबर को ही पता चलेगा, वैसे जनता के पिटारे में प्रशासन के लिए और भी कई सवाल है जो वास्तव में 3 नवंबर को होने वाले इस प्रोग्राम के बाद बाहर आए तो ही उचित होगा। शेष फिर।