संध प्रदेश दमण प्रशासन की नाक के नीचे, लाखों के पानी की हेरा-फ़ेरी!

Alkem Daman
Alkem Daman

संध प्रदेश दमण के दाबेल क्षेत्र में स्थित एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड को भला दमण में कोन नहीं जानता। दमण में स्थित बड़ी इकाइयों की फेहरिस्त में एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड भी एक बड़ा नाम है। एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड की दमण में दो इकाइया है एक दाबेल क्षेत्र में, दूसरी कच्चीगांव में।

दाबेल क्षेत्र में स्थित एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड को प्रतिदिन लगभग 7 लाख लीटर पानी की आवश्यकता बताई जाती है। अब इतना पानी उक्त कंपनी कहा से लाती है? सवाल यह नहीं है, बल्कि सवाल यह है की उक्त कंपनी को प्रतिदिन लगभग 7 लाख लीटर पानी कोन सप्लाई करता है? तथा कितनी रकम में सप्लाई करता है?

सूत्रों का कहना है कि फिलवक्त दाबेल क्षेत्र में स्थित, एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड को जागृति वाटर सप्लाई नाम की कंपनी द्वारा प्रतिमाह लगभग 5 लाख रुपये का पानी बिक्री किया जा रहा है! अब प्रतिमाह 5 लाख रुपये का पानी जागृति वाटर सप्लाई कहा से लाती है? दमण के किस तालाब, नदी, नहर से पानी लेकर, एल्केम लैबोरेटरीज़ लिमिटेड को सप्लाई करती है? इसका पता तो दमण प्रशासन को लगाना चाहिए।

ये भी पढ़ें-  दानह के कई एल-डी-सी एवं यू-डी-सी अपनी पदोन्नति को लेकर चिंतित।

वैसे दमण में पानी सप्लाई करने वाली कंपनिया तथा ठेकेदार तो है, लेकिन उनके पानी का स्त्रोत क्या है? यह किसी राज़ से कम नहीं! सीधी सीधी भाषा में कहा जाए, तो यह कोई नहीं जानता की पानी सप्लाई करने वाली एजेंसियाँ / ठेकेदार उक्त पानी कहा से लाती है? इस मामले में जब कुछ जानकारों से बात की तो पता चला की इकाइयो को पानी सप्लाई करने वाली किसी एजेंसी तथा ठेकेदार को दमण की किसी नदी, तालाब, नहर से पानी लेकर, इकाइयों को पानी बेचने की अनुमति नहीं। फिर दमण में बड़ी बड़ी इकाइयों को पानी सप्लाई करने वाली एजेंसियाँ तथा ठेकेदार पानी कहा से लाते है? किस नदी, तालाब, नहर से पानी चोरी किया जाता है? यह अब जांच का विषय है, दमण प्रशासन को इन सवालो का जवाब तलाशने के लिए जांच शुरू करनी चाहिए। साथ ही साथ इस मामले की तह तक जाकर दमण प्रशासन को बारीकी से जांच करनी चाहिए की दमण में ऐसी और कितनी कंपनियाँ है जिन्हे जागृति वाटर सप्लाई द्वारा प्रतिमाह लाखों का पानी बेचा जा रहा है? सवाल कई है लेकिन उक्त तमाम सवालो का जवाब तलाशने के लिए प्रशासन को इस मामले में बारीकी से जांच करनी होगी, तभी दूध का दूध और पानी का पानी हो पाएगा।

ये भी पढ़ें-  दादरा एवं नगर हवेली के प्रशासक बनें प्रफुल पटेल, वर्तमान प्रशासक मधुप व्यास को किया गया कार्य मुक्त 

वैसे इस एक मामले के अलावे, एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड से जुड़ी कई अन्य चोकाने वाली जानकारियाँ एवं दस्तावेज़ भी क्रांति भास्कर के हाथ लगे है, दस्तावेजो की सत्यता पर पड़ताल के बाद एल्केम लैबोरेटरीज लिमिटेड का पूरा सच, क्रांति भास्कर, जनता एवं प्रशासन के सामने रखेगी। शेष फिर