वापी जीएसटी के अधिकारी 25000 की घुस का पैसा वसूलने पहुंचे वलसाड, एसीबी किया गिरफ़्तार।

Vapi GST

वापी एक्साइज ओर जीएसटी विभाग में भ्रष्टाचार इस कदर हावी है कि अधिकारी घुस का पैसा वसूलने कही भी पहुँच जाते है उन्हे ना मोदी सरकार का भय है ना ही एसीबी का, अब इसका कारण क्या है इस पर तो सरकार को विचार करना चाहिए। लेकिन जो मामला इस वक्त सामने आया है उसे देखकर लगता है वापी के एक्साइज ओर जीएसटी विभाग में भ्रष्ट अधिकारियों की भरमार है ओर नीचे से लेकर ऊपर तक व्याप्त भ्रष्टाचार में, वापी के शीर्ष अधिकारी भी संलिप्प्त ओर भागीदार है, वरना वापी जीएसटी के अधिकारी घुस का पैसा वसूलने वापी से वलसाड नहीं पहुँचते!

ये भी पढ़ें-  उप मुख्यमंत्री नीतिन पटेल १९ जून को करेंगे म्युनिसिपल हॉस्पिटल का लोकार्पण

इस वक्त जो मामला सामने आया है वह मामला है वलसाड के एक बिल्डर से धूस मांगने का है। वापी एक्साइज ओर जीएसटी अधिकारी ने वलसाड के एक बिल्डर से ऑडीट के नाम पर तथा नियमानुसार कार्यवाही नहीं करने ओर बिल्डर का साथ देने के नाम पर 25000 की घूस मांगी थी, जिस पर बिल्डर ने 1064 टोल फ्री नंबर पर अपनी शिकायत दर्ज़ करवाई। इसके बाद बिल्डर ने धूस की रकम देने के लिए जीएसटी अधिकारी को धरमपुर रोड पर बुलाया ओर गुजरात एसीबी ने जीएसटी अधिकारी को रंगे हाथो पकड़ लिया, फिर क्या था, जीएसटी विभाग में हड़कंप मंच गया, अधिकारी भी पता लगाने के प्रयास में दिखे की किस किस को पकड़ा गया है। एसीबी ने जिन अधिकारियों को इस घूस कांड में पकड़ा उनके नाम सुजीत ओर विवेक बताए जाते है।

ये भी पढ़ें-  टुकवाड़ा का बड़ा प्रोजेक्ट और काले धन का बड़ा घोटाला, पुराने नोटों की लेन-देन और वो भी करोड़ो में।

इस पूरे मामले के सामने आने आने के बाद, एक बात तो तय है कि वापी एक्साइज ओर जीएसटी विभाग के अधिकारियों के भ्रष्टाचार पर अब भी लगाम नहीं लगी ओर वापी एक्साइज ओर जीएसटी के अधिकारी अभी भी काली कमाई कर सरकार को चुना लगाने का काम कर रहे है। गुजरात एसीबी को इस मामले में अपनी जांच का दायरा बढ़ाते हुए वापी एक्साइज ओर जीएसटी के सभी अधिकारियों से भ्रष्टाचार के मामले में पूछताछ करनी चाहिए ओर पता लगाना चाहिए कि पूर्व में कितने मामलों में अधिकारियों ने घूस लेकर सरकार को चुना लगाया ओर कितनी संपत्ति अर्जित की।