कई दुकान-मकान मालिकों ने माफ किया दुकानों का किराया।

Vapi Market

वापी। अनलॉक-2 की शुरुआत हो गई है, बाजार में भी रोनाक दिखाई देने लगी है लेकिन दुकानों से खरीददार नदारद है। कोरोना के कहर से अभी भी लोग खुलकर खरीददारी नहीं कर रहे है जिससे बाजार में कारोबार ठंडा पड़ा है। ऐसा लगता है मानों कोरोना ने लोगों की ज़िंदगी के साथ साथ उनकी जेब और आम्दानी पर वायरस लगा दिया। हालत कब सामान्य होंगे ओर कारोबार की रेलगाड़ी कब पटरी पर आएगी फिलवक्त तो सबके मन में यही सवाल घर किए हुए बैठा है।

खेर खबर मिली है की वापी के कई दूकानदारों को दुकान के मालिकों द्वारा किराए में बड़ी राहत दी गई है। जानकारी मिली है की कई दुकानों के मालिकों ने कारोबार ठप्प होने के कारण अपने अपने किराएदार को दुकान खाली ना करने को कहा है साथ ही यह भी कहा है की जब तक कारोबार पुनः पटरी पर नहीं आ जाता तब वह किराया नहीं मांगेंगे। हालांकि इसके बाद भी वापी और आप-आस के क्षेत्र में कई दुकाने खाली हुई है जिसका कारण मोटा किराया और कोरोना की वजह से बंद कारोबार बताया जाता है।

ये भी पढ़ें-  भदेली में सेवा सेतु कार्यक्रम का आयोजन 

वापी के अलावे दमण और सिलवासा से भी इसी तरह की जानकारी सामने आई है दमण और सिलवसा के दुकान मालिकों ने भी किराए पर दुकान लेकर अपना कारोबार चलाने वालों को किराया ना होने पर दुकान खाली ना करने का अनुरोध करते हुए किराएदारों की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है।

ये भी पढ़ें-  दानह के बाद अब दमण में भी बढ़ रही है श्रमिकों कि शिकायते, नहीं मिल रहा वेतन, नहीं सुन रही प्रशासन।

देश के कई शहरों से इससे पहले यह ख़बरें मिलती रही है की कई दुकान-मकान मालिकों ने कहीं किराया माफ किया है तो कहीं किराए में कटोती की है। ऐसे में वापी, दमण और सिलवसा में किराए पर दुकान लेकर अपना अपना कारोबार चलाने वालों को दुकान-मकान मालिकों द्वारा किराए में राहत देना व्यापारियों के लिए अच्छी खबर है। बाजार में भीड़ तो है लेकिन भीड़ के बाद भी सभी के कारोबार ठंडे पड़े है। ऐसे में किराए में थोड़ी सी मिलने वाली छूट व्यापारियों के लिए संजीवनी साबित हो सकती है।