इस राजनीतिक परिवार के नाम 110 एकड़ जमीन, क़ीमत जानकार उड़ जाएंगे होश!

दमन-दीव सांसद लालू पटेल की पत्नी और बेटा दोनों वोंटेड! | Kranti Bhaskar
Ketan-patel-Daman

संध प्रदेश दमण-दीव कांग्रेस अध्यक्ष केतन डहयाभाई पटेल के परिवार की जमीन मामले से जुड़ी काफी चौकाने वाली जानकारियाँ एवं दस्तावेज़ क्रांति भास्कर के हाथ लगे है। जिसके बारे में जानकार एक बार दमण-दीव का प्रत्येक नागरिक, डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल से यह सवाल अवश्य पूछने को विवश हो जाएगा की क्या इस जमीन के बदले दमण-दीव के युवाओ का भविष्य बेच डाला है? यदि ऐसा नहीं है तो इस परिवार के पास इतनी जमीन कहां से आई और डहयाभाई पटेल की पत्नी चंचलबेन, पुत्र जिंगेश एवं पुत्री जागृति ने आखिर किस कारोबार के जरिए इतनी जमीन हांसील की? सवाल यह भी है कि, इस जमीन को खरीदने के लिए किसके द्वारा भुगतान किया गया? यदि डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल द्वारा भुगतान किया गया तो भी यही सवाल कायम रहता है की जनता के हको की बात करने वाले नेता इतनी जमीन खरीदने के लिए पैसे कहा से लाए? और यदि इस जमीन को खरीदने के लिए डहयाभाई पटेल की पत्नी चंचलबेन, पुत्र जिंगेश एवं पुत्री जागृति ने भुगतान किया तो भी यही सवाल कायम रहता है उक्त तीनों इतनी रकम कहा से लाए? इस सवाल का जवाब आज नहीं तो कल जनता को देना ही होगा।

Daya patel daman, dahyabhai patel Assets Details 2014 Daya patel daman, dahyabhai patel Assets Details 2014

क्यो कि, आज भी दमण-दीव के कई परिवार बी-पी-एल और ए-ए-वाई का दंश झेल रहे है, कड़ी मेहनत मजदूरी के बाद भी उन्हे वो फल नहीं मिला जिस फल की टोकरी डहयाभाई पटेल का परिवार लेकर बैठा है। क्या जनता की भलाई और विकास का दावा करने वाले डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल दमण-दीव की जनता को इस राज़ की जानकारी देंगे की समाज सेवा में इतनी व्यस्तथा के बाद भी इस परिवार के नाम पर इतनी संपत्ति कहा से आई? गरीब जनता को कभी राजनीति तो कभी एन-जी-ओ के नाम पर राशन बांटते बांटते ना कैसे करोड़ो के मालिक बन गए?

  • संध प्रदेश दमण-दीव की जनता को आज तक जो कड़ी मेहनत के बाद भी नसीब नहीं हुआ वह एक राजनीतिक परिवार को कैसे मिला इस पर अब जनता सवय विचार करे!

अब जब बात केतन पटेल के परिवार की है तो फिर शुरुआत भी परिवार के मुख्या से ही करते है। आप को बता दे कि इस परिवार के मुख्या है डहयाभाई पटेल। डहयाभाई पटेल पूर्व में कांग्रेस पार्टी से दमण-दीव लोक सभा सांसद रह चुके है तथा डहयाभाई पटेल की पत्नी चंचलबेन डहयाभाई पटेल एवं पुत्र केतन डहयाभाई पटेल दमण-दीव जिला पंचायत की सत्ता का सुख भोग चुके है। वर्तमान में केतन डहयाभाई पटेल दमण-दीव कांग्रेस के अध्यक्ष बताए जाते है।

  • शायद कांग्रेस के आलाकमान को भी इस बात की जानकारी नहीं होगी की कांग्रेस का नाम लेकर उक्त परिवार कहा से कहा पहोच गया।  
  • किसी जमाने में डहयाभाई पटेल जमीन की दलाली करते थे, चंचलबेन टीचर की नोकरी करती थी और आज करोड़ो की संपत्ति।

वैसे इसके अलावे एक पुत्र और भी है जिसका नाम जिग्नेश पटेल है और दमण-दीव की जनता उसे जिग्गुभाई के नाम से भी जानती है। जिग्नेश पटेल का नाम अंत में इस लिए लिया गया क्यो की जिग्नेश पटेल उर्फ जिग्गुभाई की कहानी राजनीति से कुछ अलग-थलग ही है यह नेता पुत्र तो है लेकिन दमण-दीव की जनता की नजर में इनके काम “हफ़्ता-पुत्र” जैसे है! वैसे इससे पहले कई बार क्रांति भास्कर जिग्नेश पटेल उर्फ जिगगु की कारगुजारियों का कच्चा चिट्टा प्रशासन और जनता के सामने रख चुकी है, फिलवक्त पुनः केतन डहयाभाई पटेल के परिवार को लेकर जो जमीन मामला सामने आया है उस पर गौर करते है।

  • एक दौर ऐसा भी था जब लोक सभा सीट से लेकर जिला पंचायत तथा नगर पालिका तक डहयाभाई पटेल एवं केतन पटेल की सत्ता थी, शायद उसी सत्ता में जो बोया था आज जमीन फाड़ के बाहर निकल रहा है।
  • एक तरफ़ जनता मामूली आशियाने को तरस रही है वही दूसरी और राजनेता और रानेताओं का परिवार अरबों की जमीन का मालिक बन जाए, यह मामला नेताओं पर से जनता का भरोसा उठा देने वाला मामला साबित होता हुआ दिखाई दे रहा है।
ये भी पढ़ें-  सरकारी काम-काज की जानकारियों को पिछले 10 वर्षों में वेबसाइट पर नहीं डाल पाई संध प्रदेश प्रशासन।

किस किस का नाम है इस जमीन में। किस किस के नाम पर है यह जमीन।

क्रांति भास्कर को केतन डहयाभाई पटेल के परिवार की जमीन से संबन्धित काफी चोकाने वाले दस्तावेज़ मिले है दस्तावेज़ की संख्या तथा जमीन के सर्वे नंबर, दर्जनों में नहीं बल्कि सेकड़ों में है, इस लिए इस मामले जमीन के तमाम सर्वे नंबर उक्त खबर में संलग्न करना बामुश्किल है इस लिए आप को बता दे कि जो दस्तावेज़ मिले है उनमे प्रथम सर्वे नंबर 601/2 से शुरुआत होती है जो कि 842/4 सर्वे नंबर से होती हुई पुनः अंतिम में सर्वे नंबर 671 पर खत्म होती है। अब आप सोच रहे होंगे की उक्त जमीन की कीमत कितनी है और जमीन का कुल क्षेत्रफल कितना है तो उस पर भी बात करते है लेकिन उससे पहले आपको यह बता दे की जमीन किस किस के नाम पर है, तो पहला नाम है कांग्रेस से दमण-दीव लोक सभा सांसद रहे डहयाभाई पटेल की पत्नी एवं केतन डहयाभाई पटेल की माता चंचलबेन डहयाभाई पटेल का, दूसरा नाम है डहयाभाई पटेल के पुत्र एवं केतन डहयाभाई पटेल के भाई जिग्नेश डहयाभाई पटेल का, तीसरा नाम है डहयाभाई पटेल की पुत्री एवं केतन डहयाभाई पटेल की बहन जागृति पटेल का।

डहयाभाई पटेल एवं केतन पटेल का नाम क्यो नहीं है?

अब आप सोच रहे होंगे की इस जमीन में पूर्व सांसद डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल का नाम शामिल क्यो नहीं है तो इसका राज़ जानने के लिए आपको चुनाव आयोग द्वारा बनाए गए नियमो की जानकारी लेनी होगी। वैसे संक्षेप्त में हम आपको यह बता देते है की चुनाव में खड़े होने वाले व्यक्ति को अपनी चल एवं अचल संपत्ति का ब्योरा देना पड़ता है और इसी कारण कई नेता, संपत्ति से अपना नाम अलग रखते है ताकि जनता एवं चुनाव आयोग दोनों की आँखों में धूल झोंक सके, शायद डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल का नाम भी इस जमीन में इसी कारण नहीं है ताकि वह इस जमीन की जानकारी से जनता को अनभिज्ञ रख सके।

अब आप यह जान लीजिए की जमीन का कुल क्षेत्रफल कितना है और कुल क़ीमत कितनी है।

पहले आप को यह बता देते है की जमीन है कहाँ। तो आप यह जानकार हैरान रह जाएंगे की जिस जमीन की हम बात कर रहे है वह जमीन दमण में ही है। संध प्रदेश दमण के मोटी दमण, मगरवाड़ा क्षेत्र में स्थित इस जमीन का क्षेत्रफल लगभग 110 एकड़ बताया जाता है। अब 110 एकड़ जमीन में कितने गुंठा होते है, कितने वर्ग मीटर और स्क्वेयर फिट होते है इसका आंकलन आप सवय लगा लीजिए। या फिर सूचना के अधिकार के तहत इस जमीन की जानकारी सरकार से मांग लीजिए।

  • जरा सोचिए 110 एकड़ जमीन में कितने गरीबो के आशियाने बन सकते है।
  • क्या सीबीआई को पता है इस जमीन के बारे में?
  • अभी कुछ समय पहले ही केतन डहयाभाई पटेल के यहां सीबीआई का छापा पड़ा था, छापे के बाद क्रांति भास्कर द्वारा प्रकाशित खबरों पर संज्ञान लेते हुए तथा केतन डहयाभाई पटेल के बारे में और जानकारी हांसील करने के उद्देश्य से, सीबीआई के अधिकारी क्रांति भास्कर के कार्यालय भी आए थे, तब क्रांति भास्कर के पास केतन डहयाभाई पटेल की कारगुजारियों की जो जानकारी थी उसे क्रांति भास्कर द्वारा सीबीआई को ई-मेल कर दिया गया था। 

हम तो आपको इसकी वो कीमत बता देते है जिस कीमत में उक्त जमीन बाजार में बिक्री हेतु ख़रीदार ढूंढ रही है। क्रांति भास्कर को सूत्रो से पता चला है कि उक्त लगभग 110 एकड़ जमीन लगभग 400 करोड़ के आस-पास की रकम में बाज़ार में बिकवाली के लिए निकाली गई है, वास्तव में इस जमीन की क़ीमत कितनी है और डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल के परिवार ने इसे कितने में खरीदी है यह तो किसी जांच एजेंसी को पता लगाना चाहिए। वैसे इस जमीन की रकम सुनकर आपके होश अवश्य उड़ गए होंगे क्यो की जिस जमाने में आम आदमी को 110 फिट का आशियाना बनाने में सालो लग जाते है उसी जमाने में मामूली नेता और नेता का परिवार यदि 110 एकड़ जमीन का मालिक बन जाए तो यह होश उड़ाने वाली बात ही साबित होगी।

ये भी पढ़ें-  दानह आबकारी निरीक्षक मिहिर भी घोटाले में माहिर, सरकारी जमीन को पार्किंग बताकर बार एंड रेस्टोरेन्ट का लाइसेन्स जारी करने की चर्चा जोरों पर।

अभी और भी कई जमीने है इस परिवार के नाम पर।

  • लोक सभा चुनाव के दौरान, केतन डहयाभाई पटेल और डहयाभाई पटेल की चल-अचल संपत्ति की जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक कीजिए। ( http://www.myneta.info/ls2014/candidate.php?candidate_id=6083 )
  • यह 110 एकड़ जमीन तो एक ही जगह स्थित है, एक जगह का मतलब एक प्लॉट अथवा टुकड़े से है। यदि पूरे दमण की बात करे तो दमण क्षेत्र में तथा गुजरात में अन्य कई जगहो पर भी इस परिवार के नाम पर कई जमीने मौजूद है, यदि प्रशासन की किसी जांच एजेंसी के पास समय हो तो जनता को उन तमाम जमीनो की टोटल मारकर, जनता को उन तमाम जमीनो की बाज़ार में आंकी गई कुल क़ीमत बताए, जिससे जनता यह अंदाज लगा सके की जनता के लिए उठाई गई एक आवाज़ उन्हे कितने में पड़ी।   
  • जब डहयाभाई पटेल ने राजनीति में कदम रखा था तब उनके परिवार की कुल संपत्ति कितनी थी और आज कितनी है? इसका ठीक तरह से जनता हिसाब लागाए तो उसके लिए यह तय करना मुश्किल हो जाएगा का अपने बच्चो को वह डाक्टर या इंजीनियर बनाए या एक नेता।

क्या आप जानते है?

दानह में प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत जीतने आवासो का भूमिपुजन किया गया उससे अधिक आवासो की भूमि तो दमण के एक राजनीतिक परिवार के पास।

मोहन डेलकर के परिवार के नाम पर कितनी संपत्ति होगी?

जरा सोचिए यदि दमण-दीव से लोक सभा सांसद रहे, डहयाभाई पटेल के परिवार ने समाज सेवा के नाम पर इतनी संपत्ति जमा कर ली, तो दानह लोक सभा से कई बार सांसद रहे मोहन डेलकर के परिवार के नाम पर कितनी संपत्ति होगी, तथा दमण-दीव व दानह के अन्य नेताओं के पास कितनी।

Mohan Delkar Silvassa Mohan Delkar Silvassa

वेसे इस मामले के अलावे, क्रांति भास्कर की टीम को अन्य कई क्षेत्रो में भी डहयाभाई पटेल एवं केतन डहयाभाई पटेल के परिवार के नाम पर जमीने होने की जानकारी मिली है जिसकी सत्यता पर पड़ताल कर क्रांति भास्कर उन जानकारियों को भी जल्द जनता के सामने रखेगी। शेष फिर।

केतन पटेल से जुड़ी अन्य ख़बरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…